Saturday, October 3, 2020

िज्ञान एवं अध्यात्म में समन्वय अति आवश्यक

प्रेरक-प्रसंगिज्ञान एवं अध्यात्म में समन्वय अति आवश्यक एक सुप्रासिद्ध वैज्ञानिक विदेश से भारत पधारे| उन्होंने किसी भारतीय सन्त से भेंट की हार्दिक इच्छा प्रकट की| दर्शनार्थ प्रबन्ध किया गया| वैज्ञानिक महोदयने सन्तसे पूछा — ‘आधुनिक विज्ञानं के बारे में आपकी क्या राय है?’ सन्त ने कहा — ‘मेरी राय में इसका कोई मूल्य नहीं है’| चकित एवं व्यथित वैज्ञानिक ने कहा — ‘जिस विज्ञान ने मनुष्य को इतनी सुख-सुविधाएं प्रदान कीं उसे आप निरर्थक बता रहे हैं?’ महात्मा ने कहा — ‘आपकी इस वर्णित उपलब्धि से मैं सह्मत हूँ, परन्तु विज्ञान की सब से बड़ी हार है कि वह मानव को मानव की भान्ति जीना न सिखा सका, परस्पर प्रेम करना, दूसरों के काम आना. उन्हें सुख बांटना न सिखा सका| मानव में मानवता प्रकट करने की योग्यता सांसारिक विद्याओं में नहीं है, यह महान कार्य परा-विद्या ही कर सकती है|’ चूंकि हमें इनसान की भान्ति, एक नेक इनसान की भान्ति, एक नेक इनसान की भान्ति रहकर जीवन-यापन की उत्कट इच्छा है, अतैव दोनों विद्याओं का समन्वय अति आवश्यक है| प्रायः कहते सुना जाता है, ‘अमुक व्यक्ति डाक्टर तो बहुत अच्छा है, पर इनसान किसी काम का नहीं, चरित्रहीन है, क्रोधी है, लोभी है| गुणवान बनना तथा दुर्गुणहीन मनुष्य बनना परा-विद्या ही सिखाती है| मानवता अनमोल है| — डा० विश्वामित्रजी (हिंदी कल्याण मासिक से साभार)

Wednesday, September 30, 2020

In Politics Congress can Stoop to any Low

Unbecoming conduct on PM Modi’s birthday In Politics Congress can Stoop to any Low By Amba Charan Vashishth Politics may be translated as rajniti in Hindi and other Indian languages. But what is in vogue in India is not rajniti but the western form called politics. In play is politics the country inherited from Muslim and British invaders which is the rajniti minus the high ideals and principles core to what rajniti stands for. In India raja-maharajas followed the principles of rajniti. Even when the two rajas came in conflict with each other, women in both principalities were treated with respect and never harmed. It was only after Muslim rule that women came to be humiliated, physically assaulted and killed if they did not submit. On the contrary, the politics that ruled the country during Muslim and British period, the conduct of the State was run on the famous principle that “everything was right in war and politics”. The rajniti was given a go bye. Politicians in India seem to have inherited the politics that was the very heart and soul of the alien rulers. Even after India became independent the politics came into play at the hands of Gandhi-Nehru families and others with niceties and courtesies lost forever. Politicians may have had differences between themselves but they never hit below the belt. Women, daughters and sons of the opponents were always spared. Political differences apart, family members of each remained common and therefore, loveable and respectable. Politics was never allowed to stand in between their social and family relations. They continued to join in marriages and every other family functions. But, of late, political rivalry has come to vitiate these relations. Now if a political rival joins in his opponent’s social relations, this conduct is frowned upon by leadership of each party. Till the other day, it had been a great tradition with political leaders to exchange birthday greetings, even with their political foes. They went to the smadhi sthal to pay their respects even if at daggers drawn with the departed soul. They may not join an auspicious ceremony uninvited but made it a point not to miss the opportunity to pay their condolences to their opponents uninvited. But a new trend, this time, was set in motion, primarily, by the country’s oldest political party, the Indian National Congress (INC), run by the Nehru-Gandhi family trio of Mrs. Sonia Gandhi, Rahul Gandhi and his sister Priyanka Gandhi Vadra. In one breath, they now greet their political rivals on birthdays and, in the next breath, hurl choicest abuses. Till now, it is confined to the Congress party but, in due course, it will be no surprise if the unhealthy malaise infects other political parties too. On PM Narender Modi’s birthday Congress President Mrs. Sonia Gandhi and her son Rahul Gandhi joined other opposition leaders in greeting him and sending their good wishes. World leaders including US President Donald Trump, Russian President Vladimir Putin, UK Prime Minister Boris Johnson, Israel Prime Minister Benjamin Netanyahu and others too wished PM Modi well. But Congress party could not help hide its bitterness towards the PM on this solemn occasion even. It burst out in the open in the words of its chief party spokesman Randeep Singh Surjewala who ended his good wishes with the malice of words: Áb ki baar bander ke haath mein ustra sarkar’. This is not the first time that Congress has made derogatory statements against PM Modi. Congress leader Arjun Modwadia has also compared Modi to a monkey. (https://www.magzter.com/news/1060/3325/092020/t2joe) To celebrate the occasion in its own style BJP launched from PM’s birthday a weeklong sewa saptah (service week) throughout the country. . Congress has, as a leading national daily put it, descended to a new low in Indian politics. Earlier, politicians used to show decency and avoided attacking leaders on personal occasions such as birthdays. However, Congress breached that barrier and showed utter lack of decency through negative and devious political discourse, by trying to ‘celebrate’ the day as National Unemployment Day and continuing with other vicious and malafide attacks as well. Home / India News / ‘Wish you would advise trolls who threaten in your name’: Surjewala on PM Modi’s tweet Whether it is the birth or death anniversary of Mahatma Gandhi, Pandit Jawaharlal Nehru, Shri Lal Bahadur Shastri, Shmt. Indira Gandhi, Sardar Ballabhbhai Patel and others, in spite of the fact that some political parties and leaders have reservations about these leaders, they still celebrate the occasion solemnly with a great sense of unanimity recalling their great qualities of head and heart. It is for the first time that politics has stooped to such a low level. The Congress should have made a choice between greeting PM Modi on his birthday or condemning him for his ‘failures’. Its conduct amounts to standing true to the old saying: bagal mein chhuri munh par raam-raam (shouting Ram-Ram aloud with a dagger concealed in the armpit). The Congress celebrated this day as Unemployment Day. Nobody can deny this right to Congress but the day and timing is obnoxious. This curse is perennial. It was there when the British left and it continued after that too. Out of the 73 years of India’s freedom, for more than 50 years Congress had been in power. Never during this period did unemployment become extinct. On the contrary, successive Congress governments had been calling the unemployment, poverty and corruption as the global problem. In 1971 general elections the then Prime Minister Mrs. Indira Gandhi raised the “gharibi hatao” slogan that caught the imagination of the electorate. She won a landslide victory. In 1984, Congress led by Rajiv Gandhi promised to provide “a government that works’. Congress in another election promised to do away with unemployment. Successive Congress governments failed to live up to their promises made to the electorate. Gharibi still is not a thing of the past. In 2014 Lok Sabha elections when Congress-led UPA was defeated at the hustings and BJP-led NDA government came into power, UPA government did not have a zero percent unemployment rate. The latest percentage of unemployment in Canada is 7.5, in France 8.1, China 5.9, Italy 7.8 and in India 8.5. Unemployment Rate in the United States averaged 5.76 percent from 1948 until 2020, reaching an all time high of 14.70 percent in April of 2020 and a record low of 2.50 percent in May of 1953. It must also be kept in mind that as a result of Covid-19 pandemic the situation all over the world has worsened because of closure of many large, medium and small, even cottage, industrial and commercial units. This is a situation in which the priority of governments all over the world at present, is to contain the spread of Corona pandemic, treatment of those infected and reduce the number of casualties as much as it is keep the economy moving. The World Health Organisation (WHO) has praised India’s efforts in containing the deadly corona virus. It said that PM Modi is himself monitoring the situation and the government made sure that there were equipment and supplies to tackle the COVID-19 pandemic. India has supplied anti-malarial drug hydroxychloroquine, which is believed to be helpful in control of the covid-19 pandemic, to more than 55 corona virus-hit countries as grants as well as on commercial basis. All the beneficiary countries have praised India for this timely humanitarian help at this time of need. (https://economictimes.indiatimes.com/news/politics-and-nation/india-sending-hydroxychloroquine-to-55-coronavirus-hit-countries/articleshow/75186938.cms?utm_source=contentofinterest&utm_medium=text&utm_campaign=cppst) Had the Modi government not risen to the occasion in time and taken concrete preventive steps like lockdown followed by unleashing the unlock process in various phases, India with about 70% of its 135 crore population living in rural areas, India would have topped the world in corona infected cases, recovery and casualty figures. But the deliberately closed eyes of the opposition do not open up to the blaze of these stark realities. When Modi government enforced the lock-down to meet the challenge of the Covid-19, former Congress President Rahul Gandhi hit it with a borrowed intelligence quoting legendary physicist Albert Einstein, “The only thing more dangerous than ignorance is arrogance.” How relevant is this quote relevant to the corona pandemic is anybody’s guess When government launched the unlock process, Rahulji was again not impressed. His policy seems to be to criticize the government in every situation — Lockdown was wrong and unlock process too. Strange logic, Rahul style! That is the Congress politics going down day by day. ***

Tuesday, August 25, 2020

On China Congress under the shadow of its MoU? By Amba Charan Vas >

Saturday, August 8, 2020

राहुलजी का “सरेंडर मोदी” तंज पलटा “सरेंडर कांग्रेस” बन कर

राहुलजी का सरेंडर मोदीतंज पलटा  सरेंडर कांग्रेसबन कर

अम्बा चरण वशिष्ठ

          करने को तो कांग्रेस पूर्व अध्यक्ष राहुलजी ने  प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदीजी पर “सरेंडर मोदी” का व्यंगात्मक तंज तो अवश्य कस दिया पर ऐतिहासिक तथ्यों की अनदेखी कर दी लगती है या अनभिज्ञता है| यही कारण है कि ऐतिहासिक तथ्यों ने उनके ट्वीट को उल्टा कर “सरेंडर कांग्रेस” ही बना दिया| कांग्रेस द्वारा चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के साथ एक समझौता किया था 2007 में जिसका मसौदा आज तक सार्वजनिक नहीं किया गया| यह सर्वविदित है कि चीन की कम्युनिस्ट पार्टी, चीन की लिब्रैशन आर्मी और चीन की सरकार के बीच कोई अंतर ढूंढ पाना एक टेढ़ी खीर है|

 

ऐसे समय जबकि देश की सेना चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा पर संरक्षण केलिए आमने-सामने खड़ी है,  कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधीजी ने एक व्यंगात्मक तंज कस कर प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी कोसर्रेंडर मोदी” (आत्मसमर्पि मोदी) कह डाला | फिर यह तो  स्वाभाविक ही है कि ऐसे समय में  भारत के राजनैतिक दलों के आचार और व्यवहार की तुलना का दृश्य सहज रूप में ही जनता की आँखों के सामने उभर पड़ता है|

एक: 1971 में जब भारत पाकिस्तान के साथ एक युद्ध में व्यस्त था, उस समय भारतीय जन संघ के अध्यक्ष श्री अटल बिहारी वाजपेयी ने सार्वजनिक रूप से घोषणा की थी कि इस कठिन समय में भारत का केवल एक ही नेता है और वह हैं प्रधान मंत्री श्रीमती इंदिरा गाँधी| समूचा देश उनके साथ खड़ा है|   

दो: पिछले 49 वर्षों में अब तक पवित्र गंगा नदी में बहुत सा पानी बह चुका है| इस लम्बे समय में देश में बहुत उथल-पुथल हो चुकी है| जो कांग्रेस उस समय अविजित लगती थी वह आज विपक्ष में है और उतनी ही कमज़ोर जितनी कि सशक्त आश्वस्त है भाजपा-नीत राजग सरकार|

श्री अटल बिहारी वाजपेयी की राजग सरकार में रक्षा मंत्री जार्ज फर्नांडेज़ ने उस समय कह दिया था कि चीन भारत का शत्रु नंबर एक है| तब कईयों ने इसे अतिश्योक्ति कह कर अनसुना कर दिया था| तब बहुत से लोग पाकिस्तान को ही भारत का सब से बड़ा शत्रु मानते थे| पहले 2017 में डोक्लाम और अब गलवान (लद्दाख) में चीन ने जो अपना शत्रुभाव दिखाया  है उससे तो अब सबको जार्ज साहिब की  ही बात ठीक लगती है  हालांकि इस समय  पाकिस्तान भी चीन के हाथ में ही खेल रहा है|   

2014 में जब श्री नरेन्द्र मोदी ने पूर्ण बहुमत प्राप्त कर प्रधान मंत्री पद ग्रहण किया तो उन्होंने चीन समेत भारत के सारे पड़ोसी देशों से भारत के सम्बन्ध मैत्रीपूर्ण बनाने केलिए कुछ ठोस कदम उठाये| पर चीन और पाकिस्तान की रग-रग में दौड़ते शत्रुभाव और धोकाधड़ी की मानसिकता में कोई बदलाव सका| उन्होंने उलटे श्री मोदी के इस मैत्रीभाव को उनकी नई सरकार की कमजोरी ही समझ लिया|   

लगता है आज 2020 में भी चीन 1962 के दिवास्वप्न में ही जी रहा है| वह वर्तमान की सच्चाइयों की अनदेखी कर रहा है| वह यह नहीं समझ  रहा कि आज का 2020 किसी केलिए भी 1962 नहीं है चीन केलिए और भारत केलिए| आज चीन में चाऊ एन लाई प्रधान मंत्री हैं और भारत में प्रधान मंत्री जवाहरलाल जी ही हैं| तब और आज में जो समानता है वह केवल यही कि आजका चीन भी उतना ही अविश्वसनीय और पीछे से दोस्त की पीठ में छुरा घोम्पने वाला है जितना कि वह पहले था | वह भारत के साथ मित्र बन कर 1962 में यही कर चुका है और आज भी यही कर रहा है|  

पीछे जब भी चीन ने भारत को सीमाओं पर धमकाया तो उस समय केंद्र में  कांग्रेस सरकारें ही थीं| पर इस बार जब चीन ने भारत के खिलाफ वही हिमाक़त कर दी तब उसे पता चला कि उसने इस बार ग़लत जगह पर हाथ डाल दिया है| उसे तब समझ आई कि यह सरकार तो पिछली सरकारों से बहुत भिन्न है जो दोस्ती का हाथ भी बढाती है और अगर कोई दोस्ती की आड़ में दुश्मनी का प्रदर्शन करता है तो  वह उसी हाथ से मुंह तोड़ मुक्का भी जड़ देती  है ताकि उसके होश ठिकाने जाएँ| वर्तमान सरकार कोई मक्कारी भी बर्दाश्त नहीं करती| अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के शब्दों में, श्री मोदी बड़े सच्चे-पक्के मित्र हैं पर जब राष्ट्र के हित की बात जाती है तो  उसे सुरक्षित करने केलिए बड़े कड़क भी बन जाते  हैं| 

अब जबकि चीन ने दोस्ती का मार्ग छोड़ कर दुश्मनी और विस्तारवादी रुख अपनाया है तो  मोदी सरकार ने भी सेना को खुली छुट्टी दे रखी है   जैसा पहले कभी नहीं हुआ कि वह स्थिति के अनुसार देश की सीमा और पवित्र भूमि की रक्षा केलिए जो भी ठीक समझें अवश्य करे|  अब वह समय नहीं रहा जब सैनिकों को दिल्ली की ओर मुंह  करना पड़ता था यह पूछने केलिए कि उनके हाथ में जो बन्दूक है उसकी गोली देश की रक्षा केलिए वह चला सकते हैं या नहीं|

पर जब पाक समर्थित प्रेरित आतंकियों ने उरी पुलवामा पर धावा बोला तो उस पर भारत की सब से पुरानी राजनितिक पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के  तत्कालीन अध्यक्ष श्री राहुल गाँधी के स्टैंड ने तो सब को अचंभित उद्वेलित कर के रख दिया| यह भारत के जनमानस की भावनाओं से बिलकुल उलट था| उरी के बाद जब भारत ने पाकिस्तान के विरुद्ध सर्जिकल स्ट्राइक की तो पाकिस्तान ने तो इसे झूठ बताया ही, राहुलजी ने इसका सबूत माँग डाला | बाद में आतंकियों ने पुलवामा में सुरक्षा बलों  के हमारे 40 बहादुर सैनिको को शहीद कर दिया| मोदीजी ने घोषणा की कि पाकिस्तान को इस दुस्साहस का खम्याज़ा भुगतना पड़ेगा| फलस्वरूप भारतीय वायु सेना ने बालाकोट में अपने एक साहसिक आपरेशन में पाकिस्तान के भीतर घुस कर आतंकियों के ठिकानों को ध्वस्त कर 200 से अधिक आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया| झूठ बोलने की आदत के मुताबिक पाकिस्तान ने फिर इसे झूठ बता दिया| राहुलजी भी पीछे नहीं  रहे| उन्होंने भी इसका सबूत मांगने की देरी की| राहुलजी तथा अन्य विपक्षी नेताओं के भाषण पाकिस्तानी मीडिया में सुर्ख़ियों में छाये रहे| पाकिस्तान ने अपने झूठे प्रचार केलिए भारतीय नेताओं के कथनों को उद्धृत किया| बाद में पाकिस्तान ने सर्जिकल स्ट्राइक और बालाकोट आपरेशन दोनों को स्वीकार कर लिया| किरकिरी किसकी हुई?

यह मोदीजी की राजनयिक सफलता का ही कमाल है कि आज पाकिस्तान विश्व के देशों में अलग-थलग पड़ गया है| अमरीका. बर्तानिया, फ्रांस, जर्मनी, जापान. इजराइल, और कई अन्य देशों ने भारत को अपनी सुरक्षा और आतंक के विरुद्ध लड़ाई में कुछ भी करने के लिए उसके अधिकार का समर्थन किया है|

यूपीए-1 के कार्यकाल के दौरान 2008 में कांग्रेस ने चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के साथ एक समझौते ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये जिसमें दोनों ने एक दूसरे के साथ बड़ी महत्वपूर्ण जानकारी के आदान-प्रदान और सहयोग करने केलिए अपनी प्रतिबधता जताई|  इस ज्ञापन में दोनों ही दलों नेदोनों के हित के आपसी, क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय महत्वपूर्ण मामलों में एक-दूसरे से परामर्श करने की प्रतिवद्धता भी जताई”|

यह ज्ञापन तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गाँधी की उपस्थिति में उनके सुपुत्र तत्कालीन कांग्रेस महामंत्री राहुलजी चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के तब के उपप्रधान श्री जी जिनपिंग ने हस्ताक्षर किये थे जो आजकल चीन के राष्ट्रपति हैं|

इस ज्ञापन में क्या लिखा है, यह आज तक रहस्य बना हुआ है| इस में क्या है या क्या नहीं है, यह तो कांग्रेसियों को भी नहीं बताया गया है| पर क्या कांग्रेसजन और भारत के लोगों को ज्ञापन  का मसौदा जानने का अधिकार नहीं है? कांग्रेस वैसे तो पारदर्शिता का ढिंढोरा पीटती है पर अपने बारे गुप्तता बनाये रखना चाहती है, चीन ही की तरह|

यह भी याद रखने की बात है कि 2017 में डोक्लाम विवाद के समय राहुलजी भारत में चीन के राजदूत को मिले थे| यह पता नहीं कि वह उस ज्ञापन के अनुपालानके अनुसार वहां गए थे|

2008 में चीन सरकार के आमंत्रण पर श्रीमती सोनिया गाँधी अपने परिवार राहुल गाँधी, पुत्र, प्रियंका गाँधी वडरा, और उनके दो बच्चों के साथ आलंपिक गेम्स के उदघाटन समारोह में चीन गयी थीं| हैरानी की बात यह है कि चीनने इस समारोह में तब के प्रधान मंत्री डॉ. मनमोहन सिंह या उनके किसी मंत्री को नहीं बुलाया| लगता है कि चीन को भी अब समझ गया है कि कांग्रेस अब एक गाँधी-नेहरु परिवार तक ही सीमित हो कर रह गई है और अन्य का कोई अस्तित्व नहीं है|  

एक वर्ष पूर्व सोनिया गांधीजी अपने पुत्र राहुलजी  के साथ एक कांग्रेसी प्रतिनिधि मंडल के साथ चीन भी  गयी थीं |

15-16 जून, 2020 को चीन ने एक बार फिर लद्दाख में गलवान के स्थान पर अपनी विस्तारवादी नीति के अनुसार वहां एक बार फिर झगडा खड़ा कर दिया| वहां झड़प में भारत के 20 सैनिक शहीद हो गए| चीन के 43 जवान भी इस झड़प में मारे गए थे| चीन सरकार ने तो इस तथ्य का खंडन किया पर उसके सरकारी दैनिक ग्लोबल टाइम्स  में माना कि एक अफसर समेत उसके काफी जवान मारे गए हैं| चीन का अमानवीय चेहरा भी उजागर हो गया  कि चीन सरकार ने दिवंगत सैनिकों के परिवारों को भी नहीं बताया और स्वयं ही उनका अंतिम संस्कार कर दिया| परिवारों को बताने पर सच्चाई उजागर हो जाती|

          प्रधान मंत्री मोदीजी , रक्षा मंत्री राजनाथ सिंहजी और विदेश मंत्री जैशंकरजी ने चीन   और साथ ही पाकिस्तान   को साफ़-साफ़ बता दिया कि भारत किसी भी सूरत में अपनी भूमि के इंच पर भी किसी प्रकार का समझौता नहीं करेगा और इसके लिए वह सब कुछ करने केलिए तैयार है| अमरीका, जापान, बर्तानिया और ऑस्ट्रेलिया जैसे अनेक देशों ने चीन की विस्तारवादी सोच के विरुद्ध भारत का साथ देने का आश्वासन दिया है| वैसे चीन ने वहां से दो किलोमीटर पीछे हट जाने का विश्वास दिलाया है पर फिर भी आज-कल करता जा रहा है|

यह सफलता भारत के ठीक स्टैंड की सफलता है| यह प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी जी के लद्दाख में सीमा स्थल पर अचानक दौरे का नतीजा भी  है| इससे सीमा पर डटे  सैनिकों के मनोबल को बड़ा बल मिला | इस दौरे में सेना प्रमुख भी उनके साथ थे| प्रधान मंत्री संघर्ष में घायल हुए जवानों को सेना अस्पताल में भी देखने गए| घायल सैनिकों ने प्रधान मंत्री जी को बताया कि वह शीघ्र स्वस्थ होकर फिर अपनी सीमा की सुरक्षा केलिए चीन से दो हाथ करने केलिए बेताब हैं|

मोदीजी के दौरे ने चीन और पाकिस्तान दोनों को ही स्पष्ट सन्देश दे दिया कि भारत किन्हीं भी गीदड़ भवकियों से विचलित होने वाला  नहीं है| पाकिस्तान के प्रधान मंत्री तो इतने परेशान हो गए कि उन्होंने उसी दिन अपनी सुरक्षा समिति की एक आपात बैठक बुला ली| 

          भाजपा-नीत राजग सरकार इस बात पर गौरव कर सकती है कि जब-जब भी उसकी सरकार रही है उसने अपने समय में कभी दुश्मन के साथ एक इंच भूमि पर भी समझौता नहीं किया है| यह तो स्वर्गीय प्रधान मंत्री श्री जवाहर लाल ही थे जिन्होंने 1962 में अपने कार्यकाल में अक्साई चिन में  38000 किलोमीटर से अधिक भारत की भूमि  चीन के हाथों गँवा दी| एक मीडिया रिपोर्ट (IANS) ने मई 2020 में समाचार दिया कि चीन ने यूपीए-2 के कार्यकाल में पूर्वी लद्दाख में 640 वर्ग किलोमीटर भूमि पर कब्ज़ा कर लिया है| 2013 में पूर्व विदेश सचिव श्याम सरन राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बोर्ड के अध्यक्ष थे| लद्दाख क्षेत्र के दौरे के समय उन्होंने भी पाया कि चीन की पीपलज लिबरेशन आर्मी ने लद्दाख में 640 वर्ग किलोमीटर भारत की भूमि पर कब्ज़ा  कर लिया है| सरनजी ने भी मनमोहन सरकार को इसकी सूचना दी| पर यूपीए सरकार ने इसकी अनदेखी कर दी|  

 एक ट्वीट में पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल के  प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी को सरेंडर मोदीकहने से  लगता ऐसा है कि नेहरु-गाँधी वंशज राहुलजी का भारत के इतिहास का ज्ञान काफी कमज़ोर है | लद्दाख के अक्साई चिन के 38000 किलोमीटर से अधिक का भूभाग चीन को उनके पड़नाना प्रधान मंत्री श्री जवाहरलाल नेहरु के समय सरेंडर हुआ था| 1972 में शिमला समझौते द्वारा राहुलजी की दादी प्रधान मंत्री इंदिरा गांधीजी ने पाकिस्तान के साथ 1971 के युद्ध में हमारी सेना के बहादुर जवानों के अदभुत शौर्य क़ुरबानी के फलस्वरूप पाकिस्तान पर जीत को पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधान मंत्री जुल्फिकार भुट्टो को एक तश्तरी पर रखकर एक मुस्कान के माध्यम से दे डाला| अंतर्राष्ट्रीय सीमा के पर जीती भूमि को तो लुटाया ही, पर उसके साथ पकिस्तान अधिकृत कश्मीर का वह इलाका भी बड़ी दरयादिली से पाकिस्तान को दान कर दिया| एक तरफ तो हम बार-बार कहते फिरते हैं कि सारा पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर हमारा है तो वह इलाके  क्यों पाकिस्तान को लौटा दिये? 1948 से ही भारत अनगिनित बार कहता फिरता है कि यदि पाकिस्तान से कोई मुद्दा सुलझाना है तो केवल पाक अधिकृत कश्मीर को भारत के साथ मिलाना है|  जीते हुए कश्मीर भाग को वापस पाकिस्तान को लौटा देने से क्या भारत का उस पर अधिकार कमजोर  नहीं पड़ा?

स्वतंत्र भारत में पिछले 73 वर्ष में यदि भारत ने सच्ची और वास्तविक जीत प्राप्त की है तो  वह केवल तब जब देश में भाजपा के नेतृत्व में राजग सरकार  थी| 1999 में अटल बिहारी वाजपेयी प्रधान मंत्री थे जब पाकिस्तान ने कारगिल में आक्रमण किया था| तब इसी सरकार ने सभी उत्पादियों को देश की पवित्र भूमि