Friday, April 19, 2019

Beware! Skipping Breakfast May Lead To Many Health Problems


Beware! Skipping Breakfast May Lead To Many Health Problems
A good breakfast is usually composed of dairy products (fat-free or low fat milk, yogurt and cheese), a carbohydrate (whole wheat bread, bagels, cereals), and whole fruits.


Do you skip your morning meal and eat dinner late at night? If so, it may increase the risk of death and other heart-related problems, researchers have warned.
The findings, published in the European Journal of Preventive Cardiology, suggest that people with such an unhealthy lifestyle had a four to five times higher likelihood of early death and increased chances of a second heart attack.
(Read more ......https://www.ndtv.com/health/beware-skipping-breakfast-may-lead-to-many-health-problems-2025026
(Courtesy NDTV in public interest)

Monday, February 4, 2019

#MeToo now turns them bold


For years they acquiesced
#MeToo now turns them bold

By Amba Charan Vashishth

                The #MeToo movement is blazing a new trail in the country. Normally, a victim of a crime does —and should — knock the door of police to seek investigation and justice both to the accused and the victim after a court trial.  But, not now with #MeToo which inspires people to rush to the Facebook or Twitter or media to seek publicity and media trial as the aggrieved person. The beauty of the whole exercise is that what the accuser says is being taken as the gospel of truth and the person complained against is taken as guilty instantly without investigation and court trial. There is no onus on complainant to prove his/her allegations. The accused is being deprived of the right to prove his innocence. People now don't need to wait for months and years for investigation and verdict after trial in a court of law.  
        The trend started with a woman charging yester years’ popular hero Jitendra of having raped her at Shimla more than forty years back.
        #MeToo movement surfaced in Hollywood some months back. Bollywood jumped to follow it. The movement has startled our actors to crave their past to discover what wrong had been done to them. They are now spilling the beans of their having been subjected to rape, their modesty outraged and other kinds of sexual misdemeanour at the hands of their colleagues. More and more are now coming out with their disclosures.
        The world of journalism too has taken the cue. Demands are now being made to summarily remove the persons accused immediately from offices/posts they hold even before they are pronounced guilty of the crime by a court of law.
        The ‘secular, liberal intelligentsia’ had campaigned for extending full opportunity to prove their innocence to Parliament attack accused Afzal Guru, the Pakistani terrorist Ajmal Kasab caught live in 26/11 attack and Yaqub Memon guilty of 1993 Mumbai serial blasts. But they are not willing to extend this very right to the persons complained against. They are the people who had throughout been taking a stand that a person proven guilty and given punishment by a court of law should not be taken as guilty till the Supreme Court had handed out its final verdict.
        The first essential requirement to prove an accused guilty of rape and attempt to violate the modesty of a woman is the medical examination report of the complainant and the accused besides other evidence. Can the medical examination of the complainant and the accused after years and decades prove the allegation?
        A rape is a crime if it is alleged within a reasonable period of time. Keeping quiet for years and decades leads one to conclude that the victim has, for some reason or consideration, compromised. This automatically gives the impression of it having been an act with mutual consent. Going vocal now after keeping silent for years comes to smack of it being an afterthought.
        Indulging in sex before marriage, obviously, implies each others' consent even if under the promise of a marriage or other considerations. Giving it the colour of a rape later is a relation gone sour. A sex act with consent today cannot turn an act without consent months and years later. No law or society condones it.
        Contrast the present controversy with the brave example of a Tehelka woman reporter who firmly stood up against her boss instantly in a similar situation. The person accused is facing a criminal offence in a court of law in Goa. What considerations did weigh with these gentle women to seal their mouths for so long?  
        Actors are willing to go ‘bold’ in displaying nudity and to enact bedroom scenes in a film. Even while promoting their films they are very courageous before an audience. But they are making accusations against members of their own fraternity as if they had always been a ‘touch-me-not’. For them, it looks, doing a thing before a camera is an act of art for which they are paid. Performing the same role becomes violation of law if not before a camera and is without payment.
        The movement gives rise to pertinent questions: One, can an individual's honour and the post/office one holds be made a prisoner to somebody, high or low, hurling wild charges which have yet not passed through the acid test of truth?
        Two, where was their moral courage when they did not stand up to their sexual exploitation and why are they bold enough to spill the beans now after decades? They now have had the best of the two worlds: acquiesced into their sexual exploitation standing against which would have resulted in loss of money and career. Now that they have nothing to lose, they have turned 'bold' and verbose.
        More surprising is the Editors' Guild of India calling upon the veteran editor M. J. Akbar "to show grace and withdraw his defamation case against journalist Priya Ramani "who had come forward against the former editor". It even threatened that if he did not do so, "it would offer all support to the women". In other words it means that the Guild has condemned Akbar guilty without a free and fair trial in a court of law.

Courtesy: Monthly SOUTH ASIA POLITICS

Thursday, September 27, 2018

हास्य-व्यंग — अल्लाह के नाम देदे भीख भ्रष्टाचार की


हास्य-व्यंग


अल्लाह के नाम देदे भीख भ्रष्टाचार की

मैं हूँ एक राजनेता सही मायनों में. मैंने आज तक और कुछ नहीं किया जिसका सम्बन्ध राजनीति से न हो. मैं कुछ और कर भी नहीं सकता था. मैं तो इसके साथ शुरू से ही चिपका रहा. मुझे पक्का विश्वास था कि मेरी मेंहनत व तप-तपस्या एक दिन ज़रूर रंग लाएगी. जीवन का मेरा एक ही लक्ष्य था: जनसेवा. इसमें कोई कमी या लापरवाही नहीं होनी चाहिए. इसके लिए मैं कुछ भी, कोई भी कुर्बानी दे सकता हूँ. मेरा पूरा विश्वास था कि सेवा में ही प्रसाद छुपा है. सेवा का मज़ा लूटो इसका फल जल्दी या देर से अवश्य मिलेगा. मुझे भगवान् श्री कृष्ण के उपदेशों पर पूरा विश्वास है. उन्हों ने कहा था कि तू कर्म कर, फल का ध्यान मैं रखूंगा. वैसे मैंने अपने जीवन में कभी फल की आशा रखी ही नहीं. मेवा मुझे जग के पालनहार अपने आप देंगे. मुझे तो फल अपने आप बिना उसकी कामना करने के मिला है. मुझे पता था कि मेरे परम भक्त व समर्थक इसका ध्यान अपने आप ही रखेंगे. मैं तो जन सेवा पूरी ईमानदारी से करता था बिना किसी फल की चिंता किये बग़ैर. मैं तो फल की चिंता अपने ईश्वर पर ही छोड़ देता हूँ. यह ईश्वर की चिंता है; मेरी नहीं. मैं तो इस बात में भी विश्वास रखता हूँ कि यदि मेरे पास सेवा की पूँजी है तो फल तो अपने आप ही मेरी झोली में गिरते जाएंगे.

मुझे तो यह भी पूरा विश्वास है कि आप सरीखे मेरे समर्थक, मेरी चिंता करने वाले लोग मुझ से ज़्यादा चिंता करते हैं. मैं तो जनता हूँ कि भूखे पेट तो व्यक्ति कुछ भी नहीं कर सकता, ईश्वर का नाम भी नहीं ले सकता. भूखे पेट तो मैं पॉलिटिक्स भी नहीं कर सकता. भूखे पेट तो आदमी किसी के पक्ष में या विरोध में भी अपने हाथ खड़ा करने की शक्ति नहीं रखता. खाली पेट तो उसे अपनी भूख ही याद रहती है. वह तो ईश्वर को भी भूल जाता है. भूखी-प्यासी जनता की भूख-प्यास दूर करने का कोई कैसे असीम आनंद प्राप्त कर सकता है जब उसके पास अपने और अपने बच्चों की ही भूख मिटाने का साधन नहीं हो तो. मुझे हमारे बुज़ुर्ग बताते थे कि यदि भूखे को पूछा जाये कि दो और दो कितने होते हैं तो वह बताता है कि चार रोटी. भूखे पेट तो व्यक्ति ईश्वर को भी भूल जाता है. जब उसके पेट के अंदर कुछ जाता है तो अंदर से डकार निकलता है और तब उसके मुंह से अनानास ही निकल जाता है: हे ईश्वर!

मैंने अपना सब कुछ न्योछावर कर दिया और जनता की सेवा करने की कसम खाई. इसलिए मैंने हर चुनाव लड़ा पंचायत का, विधान सभा और लोक सभा का. पर मैं कभी भी,कहीं भी सफल नहीं हुआ. मैं तो राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति का भी चुनाव लड़ना चाहता था पर सरकार ने  मेरे जैसे देश व जनता की भक्त की लिए ऐसा कर पाना असंभव बना दिया है.

इसके बावजूद जनसेवा का मेरा प्रण कमज़ोर न हो पाया. मुझे एक ईश्वरीय प्रेरणा मिली है. मुझ में एक नयी शक्ति का संचार हुआ है. मुझे एक नयी रौशनी दिखी  है. इसी प्रेरणा के कारण मैं अपने उदार भाई-बहनों, बुद्धिजीविओं, अग्रणी नागरिकों, माताओं, भाई-बहनों और हमारे नन्हें-मुन्ने बच्चों तक से विनम्र प्रार्थना कर रहा हूँ  कि मुझे खुले दिल से घूंस देने की कृपा करें. अब आप मुझ से प्रश्न करेंगे कि वह मुझे रिश्वत क्यों दें. तुम तो कोई मंत्री या उसके चमचे तो हो नहीं जो कभी मेरे काम आओगे और मेरा उल्टा-सीधा काम भी कर दोगे. न तो तुम किसी बड़े अफसर या मंत्री के अर्दली हो नहीं जो मुझे पिछले दरवाज़े से मिला दोगे.

पर तुम तो कुछ नहीं हो. तुम मेरे क्या काम आओगे जो मैं तुम्हें रिश्वत दूँ?
मैं मानता हूँ कि मैं आज तो कुछ भी नहीं हूँ. मैं किसी के काम नहीं आ सकता, किसी का कोई काम नहीं करवा सकता हूँ. पर आपको यह भी नहीं भूलना चाहिए कि मैं कम से कम लोगों का नेता तो हूँ. और यही मेरे जैसे जनता के सेवक जो कल को मंत्री और मुख्य मंत्री बन जाते हैं उनके समर्थकों और चाहने वालों  के आशीर्वाद से. जनता आज मेरे साथ है और कल को वे ही मेरी सब से बड़ी ताकत  होंगे. यहाँ तक तो यह बात सच्ची है.  इतनी गारंटी तो मैं निश्चित तौर पर दे सकता हूँ. आप लोगों को इतना याद रखना चाहिए कि आज जिस पत्थर को आप पांव से ठोकर मार देते हैं, वही कल को आपके बहुत बड़े काम आ सकता है; आपकी जान तक बचा सकता.  आप भली भांति मानते होंगे कि मैं तो किसी पत्थर से कहीं बड़ा मानव हूँ और उससे भी बड़ी बात कि मैं एक नेता हूँ. यह ठीक है कि आज मैं कुछ नहीं हूँ, आपके किसी काम का नहीं. पर कल किसने देखा है? मैं कल को आपके लिए आसमान से तारे तोड़ कर लाने का वादा तो कर ही सकता हूँ.  आज का समय वादों का है.  आज तो सरकारें बन जाती हैं या बदल दी जाती हैं मात्र जनता को बड़े बड़े वादों की शक्ति पर. यह भी तो सच्चाई है कि यदि नेता और दल जनता को वादे न करें तो कोई उनको वोट नहीं डालेगा. यही नहीं. लड़के-लड़की में प्यार भी वादों के आधार पर ही उपजता है. वादे न होंगे तो प्यार भी नहीं होगा. प्यार नहीं होगा तो प्रेम विवाह भी नहीं होगा. अगर विवाह नहीं होगा तो समाज कैसे निर्मित होगा? तब तो न परिवार होगा, न समाज, न गाँव और न देश न प्रदेश. न सरकार होगी और न विपक्ष. संसार में सब कुछ बिखर कर रह जायेगा. चारों तरफ अव्यवस्था का माहौल होगा. हम धातु और पत्थर युग की ओर पीछे मुड़ते दिखेंगे.

आप कहेंगे तुम तो कुछ भी नहीं हो. तुम्हारी हैसियत ही क्या है, औकात ही क्या हैं? तुम कैसे कोई एक भी वादा कर सकते हो?  पर लगता है कि आप पॉलिटिक्स, विशेषकर जो भारत में है, उसे जानते ही नहीं, पहचानते ही नहीं. यहाँ तो सब कुछ हो सकता है. असंभव नाम की तो कोई चीज़ ही नहीं है. जिस व्यक्ति को आप जैसे महानुभाव और बड़े-बड़े बुद्धिजीवी कहते फिरते हैं कि अमुक व्यक्ति या पार्टी कभी जीत ही नहीं सकती, इस जन्म में तो क्या अगले सात जन्मों में भी नहीं, वही जीत जाते हैं, सरकार बनाते हैं, मंत्री और मुख्य मंत्री बनते हैं. साथ ही आप जैसे लोग जो कहते हैं कि इस व्यक्ति को या पार्टी को हराने वाला अभी तक पैदा नहीं हुआ, वही हार की धूल चाटता है. क्या किसी ने सोचा था या बड़े-बड़े ज्योतिषिओं ने भविष्यवाणी की थी कि एक दिन राबड़ी देवी जी मुख्यमंत्री बनेंगी और वह भी अपने पति के स्थान पर.  बाद में तो उनके पिता भी ग्राम प्रधान चुने गए. वहां नारा लगा — "हमारे नेता आप हैं क्योंकि आप मुख्य मंत्री के बाप हैं".

जब तक कि ओबामा अमरीका के राष्ट्रपति पद के लिए नहीं उतरे थे तब तक दुनिया में कौन उन्हें जानता था? आज सारी दुनिया उन्हें जानती है. अमरीका के वर्तमान राष्ट्रपति की भी वही बात है. सब वादों के ज़ोर पर ही जीते थे.

मैं आप से रिश्वत की भीख ही नहीं मांग रहा हूँ. मैं साथ ही यह चाहता हूँ कि आप मुझे रिश्वत मांगने और लेने का अपराध में फंसा दो. मुझे जेल भिजवा दो. मैं यही चाहता हूँ. आप देखना मैं जेल से ही चुनाव लडूंगा और जीत कर दिखा दूंगा. मैं जेल से ही जनता का प्रतिनिधि बन कर दिखाऊंगा. आपको पता है कि हमारी आम साधारण अदालतों से भी ऊपर, सब से ऊपर होती है जनता की अदालत. वह बड़े से बड़े गुनाह माफ़ कर देती है. जेल से छूट कर कई व्यक्ति मंत्री-मुख्य मंत्री बने हैं. मुझ से भी यही होगा. आज रिश्वत कोई अपराध नहीं है.

मैं जब जेल से निकलूंगा तो जेल के छोटे से बड़े सभी अधिकारी मुझ से माफ़ी मांगेंगे. कुछ उनको दी गयी सेवाओं को याद रखने की बात करेंगे. कहेंगे कि उनको मत भूल जाना.

इसी लिए मैं कहता हूँ कि आज मुझे रिश्वत देने का ईश्वरीय मौका मत गंवाओ. हो सकता है कि कल पॉलिटिक्स करवट बदले और मैं मंत्री-मुख्य मंत्री बन जाऊं. तब आप अपने को और अपनी किस्मत को कोसेंगे कि तुमने मेरे जैसी महान आत्मा को रिश्वत देने का सुनहरी मौका हाथ से गँवा दिया. मेरे से कोई वादा भी नहीं लिया. कल को तो तुम मेरे दर्शन तो क्या, मेरी एक झलक के लिए भी तरसोगे. तब मेरे पास आकर मेरी वाणी से बरसते फूलों की महक से भी वंचित रह जाओगे .इस लिए मैं आप से आज हाथ जोड़ कर प्रार्थना कर रहा हूँ कि मुझे रिश्वत देने और वह भी मुझे केवल रिश्वत देने का ही नहीं बल्कि मुझे फंसा देने और सजा दिलवाने के भी सुनहरी मौके को हाथ से मत जाने दीजिये. बहती नदी में हाथ धो लो. कल शायद आपको इस मौके को गँवा देने पर ग्लानि हो और आप अपने आपको कभी माफ़ न कर पाएं.     ***
Courtesy: Udayindia Weekly (Hindi)

Monday, August 27, 2018

हास्य-व्यंग — आओ हम भी बैंक से मोटा उधर लें



हास्य-व्यंग
        
आओ हम भी बैंक से मोटा उधर लें
बेटा:   पिताजी.
पिता:   हाँ बेटा.
बेटा:    पिताजीआपने मुझे कभी आगे बढ़ने का मौका लेने नहीं दिया. सदा मुझे रोका और  टोका ही.
पिता:   अब क्या हो गया?
बेटा:     मैंने जब कुछ करना चाहाबड़ा बनना चाहा तो आपने सदा अपनी टांग अड़ा दी. मुझे कुछ करने ही नहीं दिया. कभी नहीं चाहा कि आपका बेटा आगे बढेअपना नाम कमाए और परिवार का नाम भी रोशन करे.
पिता:   तू सीधी बात कर. इधर-उधर की बातें कर मुझे वर्गला मत.
बेटा:    पिताजीमैंने आप से बात की थी कि मैं अपना कोई काम करने की लिए बैंक से 50  लाख रुपये उधार लेना चाहता हूँ. पर आपने मुझे तुरंत रोक दिया. टोका कि तू इतने पैसे से करेगा  क्या?
पिता:   बेटाजब तूने इतना बड़ा ऋण लेना था तो तुम्हारे पास उससे क्या करना है उसकी तो कोई रूपरेखा होनी चाहिए न. यह कहना कि पैसा जेब में होगा तो कुछ भी कर लेंगे यह सोच ग़लत है. यही उल्टा काम तुम सदा करते आ रहे हो और विफल रहते हो. 
बेटा:   पिताजीमन में लगन होजेब में पैसा हो और मेहनत करने की कसक हो तो सब काम सफल होता है. पर आप तो करने ही नहीं देते.     
बेटा:   बेटाऋण पर ब्याज की सुई तो घड़ी की सुई की तरह है जो तुम्हारे हाथ में पैसा आने के साथ ही चलनी शुरू हो जाती है. तुमने अभी काम शुरू नहीं कियापर ब्याज की देनदारी तो दिन-प्रतिदिन बढ़ती जाती है. यही कारण है कि तुम्हारी तरह के बहुत से युवक ब्याज का बोझ उठा पाने से पहले ही गिर जाते हैं. मैं ने तो तुम्हें केवल चेतावनी दी थी कि सोच-समझ कर काम करो वरन न तो काम चलेगा और न तुम्हारी योजना  ही कार्यान्वित हो सकेगी.  
बेटा:   यही तो अंतर है कि जो सफल रहे हैं और आगे बढे हैं उनके पिताओं ने आपकी तरह अपने बेटे को काम शुरू करने से पहले ही डराया नहीं. उनका मनोबल नहीं गिराया आप जैसी बातें कर.

पिता:  चल तू ऋण ले भी लेतातो क्या कर लेता

बेटा:   तब मेरा नाम विजय मल्ल्यानीरव मोदीमेहुल चोकसी, ललित मोदी की तरह आज देश के सभी अख़बारों और मीडिया चैनलों में फोटो की साथ छाया होता. आप भी मेरी इस उपलब्धी पर गर्व कर रहे होते. पर आपने मुझे कोई मौका ही लेने नहीं दिया कि मैं भी आपका नाम रौशन कर सकूँ.
पिता:   मुझे तो तेरी बातें समझ ही नहीं आ रहीं. ये लोग तो करोड़ो-अरबों में खेलने वाले व्यक्ति है. तेरा इनसे क्या मुकाबला?
बेटा:   पिताजीमैं भी उनकी तरह ऋण पर ऋण लेता जाता. बैंको को कहता कि मुझे और ऋण दो ताकि मैं आपका पिछला ऋण लौटा सकूं.
पिता:   तेरे कहने का मतलब है कि बैंक आँख मीटे तेरे को भी उनकी तरह ऋण पर ऋण देते जाते और वापसी के कोई बात न करते?
बेटा:   यही तो हुआ है.
पिता:   बैंक इतने मूर्ख हैं कि ऋण वापसी की चिंता किये बग़ैर ऋण पर ऋण देते जाते हैं?
बेटा:    मेरी को क्या पूछते हैंदेखो ललित मोदीनीरव मोदी और अनेकों अन्य के बारे क्या कियाअगर उन्होंने और ऋण देने से पहले यह निश्चित किया होता कि वह पहले के ऋणों की ब्याज सहित वापसी करें तो ये महानुभाव हज़ारों करोड़ ले कर देश के बाहर न भाग पाते बैंकों को ठेंगा दिखा कर?
पिता:   पर तेरे को कैसे सैंकड़े-हज़ारों करोड़ ऋण देते जाते और पहले के ऋणों के मूल तो क्या ब्याज की भी चिंता न करते?
बेटा:   अगर इसकी चिंता करते तो इन बड़े लोगों के पास हज़ारों-करोड़ों ऋण कैसे बकाया हो जातेइसी तरह मे्रे को भी ऋण पर ऋण मिलते जाते.
पिता:   वह तो बड़े लोग हैं बेटा. उनका तू अपने साथ कैसे मुकाबला कर रहा है?
बेटा:   आपको पता है देश में जनतंत्र है. सरकार सबको एक नज़र से देखती है. वह एक नागरिक व दूसरे में भेदभाव नहीं करती और न कर ही सकती है. मैं इन महानुभावों का उदाहरण लेकर बैंकों को अदालत में घसीट कर ले जाता. उनको जवाब देना मुश्किल हो जाता.
पिता: पर तेरे और उन में तो अंतर है.
बेटा:   पिताजीये महानुभाव पहले से ही बड़े नहीं थे. उनके बाप-दादा उनकी तरह महान भी नहीं थे. ये तो इन बैंकों की मेहरबानी है कि आज वह इतने बड़े महानुभाव बन गए. सारे अखबारों और समाचार चैनलों में उनकी बड़ी-बड़ी फोटो के साथ उनका समाचार आता है और उनके कारनामों पर चर्चा होती है. अगर आप मुझे भी ज्यादा नहीं तो एक-आधा करोड़ का उधार उठा लेने देते तो आज मैं भी उनकी उच्च श्रेणी में गिना जाने लगता. पत्रकार बंधू आप से, मेरी माँ से, भाई-बहनों से अपने समाचार पत्रों व मीडिया चैनलों के लिए साक्षात्कार की फरयाद लेकर तुम्हारा दरवाज़ा खडखडाते. आप लोग भी समाचारों की सुर्खियाँ बनते.
पिता:   बेटा, मेरी तो समझ में यह नहीं आ रहा है कि तू कैसे इस ग़लतफैह्मी में जी रहा है कि बैंक तुझ पर भी इसी तरह मेहरबान रहते जितने कि इन सुखियों में आने वाले लोगों पर रहे हैं.
बेटा:   ठीक उसी तरह जैसे वह उन पर रहे हैं. मैंने भी वही हथकंडे अपनाने थे जो उन लोगों ने अपनाये.
पिता:   चलो, मान लिया कि तुझे इतने पैसे किसी तरह मिल ही जाते तो उस धन से तू क्या कर लेता जिसके लिए तूने उनसे उधार लिया था?
बेटा:   वही कुछ जो औरों ने किया है. मैं भी लन्दन, दुबई, पैरिस जैसे अच्छे स्थानों पर आलीशान बंगले, माल आदि खरीद लेता. वहाँ से मुझे अलग आय प्राप्त होती. मैं ऋण के धन को उन्हीं स्थानों पर वहां के बैंकों में जमा करवा देता जैसे औरों ने किया है. एक अकाउंट मैं स्विस बैंक में भी खोल देता जहाँ पैसा सुरक्षित रहता है और किसी को पता भी नहीं चलता.
पिता:  पर जब बैंक तुमसे तकाज़ा करते कि ऋण ब्याज सहित वापस करो तो?
बेटा:   तो मैं वही करता जो मेरे आदर्श नीरव मोदी आदि ने किया है.  
पिता:  मतलब?
बेटा:   मैं चुपचाप भारत ऐसे छोड़ चला जाता जैसे किसी को डसने के बाद सांप सांप अपने बिल में घुस जाता है और लाख ढूँढने पर भी उसका पता नहीं चलता कि वह कहाँ चला गया है.  
पिता:   और हम?
बेटा: मैं आप सबको छोड़ सकता हूँ? मैं आपको, माताजी को और सारे बहन-भाइयों को साथ लेकर जाता. आपको छोड़ जाता तो पुलिसवाले आपको और परिवार को दुखी करते. हम सब लंदन में, अबू धाबी में या फ़्रांस में मौज उड़ाते जबकि पुलिस, प्रवर्तन निदेशालय, व आयकर वाले हमें ढूँढने में जगह-जगह झक मारते फिरते.    
पिता:   बेटा, सरकार के हाथ बहुत लम्बे होते हैं. वह तुझे एक दम दबोच लेंगे. 
बेटा:   पिताजी, जो अफसर बहुत मशहूर ललित-नीरव मोदी और मल्ल्या तक को पिछले कई महीनों में नहीं पकड सके, वह मुझ जैसे अनजान को कैसे ढूंढ सकेंगे?
पिता:   पर बेटा सब से पहले गाज ग़रीब और असहाय पर ही गिरती है. ग़रीब और असहाय तो जेलों में सड़ते है और उन्हें ज़मानत नहीं मिलती जबकि श्री शशि थरूर जी जैसे महान व्यक्ति को मिल जाती है जबकि आरोप दोनों के विरुद्ध एक सामान लगाये होते हैं.
बेटा:   मेरे बारे पिताजी यह बात सच्च नहीं हो पायेगी क्योंकि जांच ऐजेंसियों को मेरे से बड़े मगरमच्छों को पहले पकड़ना है. आखिर में जब मैं विदेश में ढूंढ लिया जाऊँगा और सरकार मेरे प्रत्यर्पण की याचना करेगी तो मैं अपने आदर्श महान व्यक्तियों की तर्ज़ पर आरोप लगाऊँगा कि मुझे भारत में न्याय नहीं मिलेगा.
पिता:  पर आखिर एक दिन पकडे तो जाओगे ही न.
बेटा:   तो क्या? अंत में मैं ही बैंकों को आफर दूंगा कि मुझ से फैसला कर लो. देनदारी होगी 100 करोड़ और उस पर ब्याज ऊपर. में उन्हें कहूँगा कि मैं केवल 80 करोड़ ही दे सकूंगा. मेरे साथ समझौता कर लो. वे मान जायेंगा. कहते हैं न कि भागते चोर की लंगोटी ही सही. समझदार तो यह भी कहते है कि सारा जाता देखिये तो आधा दीजिये बाँट. मेरा क्या गया? सब बैंकों का ही तो था. फायिदे में तो में ही रहूँगा.
पिता:   यह मायाजाल तो मेरी समझ से बाहर है.    
बेटा:   वैसे पिताजी, में तो इस निष्कर्ष पर पहुंचा हूँ कि अपने जीवन में व्यक्ति को कोई बड़ा गड़बड़ घोटाला अवश्य ही कर लेना चाहिए.
पिता:   क्यों?
बेटा:   पिताजी, आजकल जब सत्ता परिवर्तन होता है तो नए शासक सत्ता गंवाए नेताओं के पीछे पड़ जाते हैं उन्हें बहुत प्रताड़ित करते हैं. मुकद्दमे पर मुकद्दमा. सारा परिवार दुखी हो उठता है. यही कारण है कि बहुत से नेता विदेश भाग जाते हैं.
पिता:   भारत के ही नहीं, पाकिस्तान के नेता भी कई सालों तक बाहर रहे और वहीँ से अपनी पालिटिक्स चलते रहे -- स्वर्गीय बेनजीर भुट्टो, उनके पति आसिफ अली ज़रदारी, मुशर्रफ, नवाज़ शरिफ आदि.
बेटा:   इसी लिए तो आजकल बहुत से नेता इसी राह पर चल रहे हैं. वरन वह या भूखे मर जाते या जेलों में सड़ते. अब मैं आपकी कुछ नहीं सुनूंगा. अब मुझे मत रोकना.
पिता:   तू जो चाहे कर, पर मेरे को अंतिम दिनों में जेल में मत सडाना. हमारा पुश्तैनी घर मत बिकवा देना. ***

Saturday, August 25, 2018

हास्य-व्यंग — व्यथा एक नेता की



हास्य-व्यंग
                        व्यथा एक नेता की

मैं  एक नेता हूँ। लोग समझते हैं कि मैं बड़ी मौज में हूँ| ऐश करता हूँ| सरकारी मकान है जिसके लिए मुझ कुछ देना नहीं पड़ता — न किरायान बिजली-पानी का बिल। इस घर में हर सुविधा की वस्तुयें मौजूद हैं मेरे पास — टीवीटेलीफोनमोबाइल फ़ोनफ्रिजगीज़रऔर क्या नहीं — सब सरकार के खर्चे परमतलब जनता के खर्चे पर। आखिर मुझे वोट भी तो जनता ने ही दिए हैं । मैं सेवक भी तो उनका ही हूँ। जनता मेरे लिए सब कुछ करती है और उनके लिए सब कुछ।
आखिर मैं हूँ तो जनता मेरे पास आती है बड़ी उम्मीदें लेकर। मुझे उनसे बड़ी आशाएं हैं। हम सब एक दूसरे से उम्मीदें लेकर जीते हैं। वह मेरा ख्याल रखते हैंमैं उनका। मैं दिन-रात काम भी तो उनके लिए ही करता हूँ। मैं जब जनता के पास जाता हूँतो जनता मेरी बहुत सेवा करती है। मेरे सम्मान में बढ़िया पकवान बनाते हैं। उन्हें पता है कि खाने में मुझे क्या चीज़ बहुत पसंद है। वह वही पकवान बनाती/बनवाती है। पीने के लिए भी वह मेरा बड़ा ध्यान रखती है। सारा मेरी पसंद का ही आता है। सामान लोकल न मिले तो वह दूसरे स्थान से मंगवा लेती है।
जब वह किसी काम के लिए मेरे पास आते हैं तो वह भी मुझ पर बड़ा हक़ जमाते हैं। यह उनका अधिकार भी है। वह मेरे पास ही रुकेंगे और खाये-पिएंगे भी मेरे घर पर । मैं भी उनका ख्याल करता हूँ। कई तो बहुत समझदार होते हैं। वह राशन-पानी भी साथ लेकर आते हैं। वह इतने तो समझदार ही होते हैं कि मेरे घर में जो लंगर-पानी चलता हैउसके लिए वह भी कुछ योगदान  कर देते हैं । एक फायदा उनको भी होता है । वह अपनी पसंद का खाना बनवा लेते हैं । वह भी उसका मज़ा लेते हैं और हम सब भी।
मुझे खाना बनाने के लिएबर्तन साफ़ करने के लिए और घर की सफाई के लिए आदमी रखने पड़े । अगर यह न करता तो मेरी पत्नी तो एक नौकर बन कर ही रह जाती । आखिर वह भी तो एक जन प्रतिनिधी की पत्नी है। हाँ कभी-कभी जब जनता मेरी पत्नी के हाथों से कुछ बढ़िया खाने की फर्याद करते हैं तो हम उनके मन को भी रख लेते हैं। उन्हें आहत नहीं करते और न करना ही चाहिए। फिर दिन रात में 14घंटे के करीब लगातार लंगर चलाये रखने के लिए बहुत इंतज़ाम करना पड़ता है|उसके लिए व्यक्ति भी चाहिए और साधन व कैश भी| ईश्वर सब इंतज़ाम स्वयं भी प्रबंध कर देता है नियत साफ़ होनी चाहिएवह सब हो जाती हैजब बड़े लोग मेरे घर आएंगे और यह सब देखते हैं और लंगर चखते हैं तो उनको अपने आप ही प्रेरणा स्वयं मिल जाती है कि हम भी उसके लिए अपना योगदान करते रहें|
मेरे लिए तो एक और परेशानी खड़ी हो जाती है|  मेरे इन हितैषियों के सामने यदि कभी ग़लती से छींक भी आ जाए तो वह इतने परेशान हो जाते हैं कि भाग कर मेरे लिए दवाई लेकर खड़े हो जाते हैं और ज़ोर डालते हैं कि मैं उनके द्वारा इतने  प्यार और चिंता से लाई गयी दवाई का सेवन अवश्य करेंन खाऊं तो वह बुरा मना जाते हैं कि उन्हों ने इतने स्नेह से मेरा ध्यान किया पर मैंने उनकी इज़्ज़त न की| उनके मन को ठेस पहुँच जाती हैउनका मन मैं भी नहीं टालताखाता जाता हूँ चाहे उससे उल्टे  मुझे ही कोई और बीमारी खड़ी  हो जाये|
पर असल मुसीबत तो तब खड़ी हो जाती है जब मैं गांव और शहर की गलियों में जन संपर्क के लिए घूमता हूँतब तो सब चाहते हैं कि मैं सब के घर को अपने चरणों से पवित्र कर दूँ और जो रूखा-सूखा मैं दूँ मैं सहर्ष कबूल करता जाऊं चाहे अगले दिन मैं बीमार ही क्यों न पड़ जाऊंसब चाहते हैं कि वह जो भी ठंडा-गर्म पेश करें मैं पीता जाऊंयह अलग बात है कि मैं उस कारण सचमुच बीमार ही क्यों न पड़ जाऊंअगर मैंने किसी का मन नहीं रखा तो समझो वह नाराज़ और चुनाव में मुझे वोट नहीं देंगेइसलिए मैं सब कुछ सहर्ष करता जाता हूँ|
यही कारण है कि मैं पदयात्रा के स्थान पर गाँव में जनसभा कर निकल जाता हूँ| पर एक मुसीबत खड़ी हो जाती हैआखिर भाषण के बाद समय अनुसार मुझे कुछ तो खाना-पीना होता हैजिस के घर मैंने खाना खा लिया या ठंडा-गर्म पी लिया तो अन्य मेरे भक्त नाराज़ हो जाते हैंतब मुझे उनको आश्वासन देना पड़ता है कि अगली बार केवल आपके घर ही आऊंगा|
ऐसा नहीं कि जो लोग मुझे मिलना चाहते है मैं उन से मिल लेता हूँकई बार समय की कमी के कारण मुझे दोनों हाथ जोड़ कर क्षमा मांगनी पड़ती हैआखिर मतदाता ही तो सब कुछ हैवह मुझे कुर्सी भी दिला सकता है और खो भी सकता हैइसलिए मैं मतदाता को तो ईश्वर से भी ऊपर समझता हूँ|
ऐसा ही संकट मेरे लिए तब भी खड़ा हो जाता है जब मैं अपने स्वार्थ के लिए किसी बड़े को मिलने जाता हूँमेरे विरुद्ध किसी ने चुनाव याचिका दर्ज कर दी थीउसकी पैरवी केलिए मैंने एक बड़े वकील को कर रखा थाअपने केस की प्रगति का पता करने मुझे अपने वकील के पास जाना पड़ता थामुझे देखते ही वह वकील कह देता था कि मैं अभी व्यस्त हूँफिर आनामैंने भी कच्ची गोलियां नहीं खेल रखीं थींमैं वकील को कह देता था कि मेरे मामले की ओर तो आपका पूरा ध्यान है पर मैं कुछ फीस की और रकम लेकर आया थातब वकील के पास एक दम समय निकल जाता|कहता दो मिनट रुको मैं अभी आप से बात करता हूँ|
मेरी तबीयत खराब थीमैं अस्पताल में भर्ती थाकुछ मेरे प्रशंसक और चिंता करने वाले आये और कहने लगे कि उनके काम के लिए मंत्री के पास चलोमैंने कहा मैं तो बीमार हूँकल ही मुख्य मंत्री व मंत्री मेरे स्वास्थय का हाल चाल पूछने आये थे|इसलिए मैं नहीं जा पाऊँगा वरन वह समझेंगे कि मैं बीमार नहीं कोई ढोंग ही कर रहा हूँदूसरे मैंने कहा कि यह तो देखो कि मैं बीमार हूँवह कहने लगे कि तेरे को कुछ नहीं होगा| हमारी दुआएं आपके साथ हैंईश्वर भी जानता है कि तुम परोपकार के लिए जा रहे होवह आपकी रक्षा करेगामरता क्या न करताचला गयाहुआ वही जिसका मुझे डर थामंत्री ने कहा कि तुम तो बीमार थे इस हालत में कैसे आ गए?मैंने सब बता दिया| वह हंसने लगे और मेरा काम कर दियातब मेरे हितैषी खुश होकर कहने लगे — हम कहते थे न आपको कुछ नहीं होगाऔर मेरा धन्यवाद भी किया कि इस हालत में भी आप चले गए उसके काम के लिए| उन्होंने ने ईश्वर से प्रार्थना की कि मैं शीघ्र ही स्वस्थ हो जाऊं और जनता की सेवा करें|
जब मैं अस्पताल से घर आ गया और डाक्टरों ने मुझे पूरे आराम के सलाह दी तब मेरा हाल-चाल पूछने वालों का तांता  मेरे घर पर लगने लगापहले तो ऐसे आते कि जैसे उन्हें बहुत चिंता हो गयी थीपर जब चाय-नाश्ता हो जाता तो कहते कि मेरे से अपने काम के लिए इस वक्त कहना तो अच्छा नहीं लगता पर फिर देरी हो जाएगी और आप ही कहेंगे कि तूने पहले क्यों नहीं बतायामेरा वह काम अभी नहीं हुआ है|यदि आप एक बार और कह देंगे तो हो जाएगा| हम आपके जल्दी स्वस्थ हो जाने की दुआ करेंगे|
जनता की दुआओं से जीने का अभ्यास तो मुझे हो ही चूका हैअब तो मैं समझता हूँ कि जब मैं ईश्वर को प्यारा हो जाऊँगा तो लोग प्रशंसा में यही कहेंगे कि मुझ जैसे अच्छे आदमी की तो ईश्वर को भी ज़रुरत होती हैमेरी शवयात्रा में शामिल हो कर एक ओर तो राम नाम सत है का नारा लगाएंगे और दूसरी ओर नेता हो तो मुझ जैसा हो के नारे लगाएंगेसाथ ही कुछ यह भी कहने से न चूकेंगे कि मैं मर गया और उसका काम रह गयामैंने कई बार याद कराया पर आज और कल ही करता रहादो दिन बाद मरता तो मेरा काम भी हो जातादूसरा कहता कि राम नाम तो सात है पर मैं ने सोचा कि यह ठीक हो जायेगा तो मैं अपने बेटे की नौकरी लगवा लूँगापर मुझे क्या पता था कि साला इतनी जल्दी मर जायेगाराम नाम तो सात है पर इसको तो भी ध्यान रखने चाहिए था कि हम जैसे उसके भक्तों का काम तो करवा जाताअगर दो दिन बाद मरता तो कौनसा आसमान गिर जाता?  इतना ही बहुत हैऔर क्या सुनाऊँ?
Courtesy: UdayIndia (Hindi) weekly