Thursday, February 28, 2013

जीवन ऐसा भी हाथ मिलाओ, आज से हम दोस्‍त


जीवन ऐसा भी
हाथ मिलाओ, आज से हम दोस्‍त 

एक पुलिस अधीक्षक को गाली देने की बहुत आदत थी। वह सब को गाली दे देते थे।

एक दिन उन्‍होंने अपने पीए को बुलाया। कुछ बात हुई और उन्‍होंने उसे गाली दे दी। पीए को गुस्‍सा आ गया और उसने तड़ाक से एसपी साहब को एक थप्‍पड़ जमा दिया।

एसपी चाहते तो पीए को नौकरी से ही निकलवा देते। पर ऐसी स्थिति में तो सब जगह यही चर्चा का विषय बन जाता कि एसपी साहब को उसके पीए ने ही चांटा मार दिया। एसपी सा‍हब ने दूरदर्शिता का परिचय देते हुये तुरन्‍त अपने पीए की ओर अपना हाथ बढ़ाया। हाथ मिलाते हुये उन्‍होंने पीए को कहा, ''आज से हम दोनों दोस्‍त। यह बात अब बाहर नहीं जानी चाहिये।''

(किसी ने सुनाया था)
28-02-2013

No comments: